दृष्टिदान - प्रेमचंद Dristidaan - Hindi book by - Premchand
लोगों की राय

सामाजिक >> दृष्टिदान

दृष्टिदान

प्रेमचंद

प्रकाशक : विश्व बुक्स प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :160
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 9300
आईएसबीएन :8179871274

Like this Hindi book 5 पाठकों को प्रिय

315 पाठक हैं

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

‘दृष्टिदान’ की कहानियां जीवन के विविध पहलुओं, अनुभवों, सचाइयों, सरोकारों एवं परिवेश के प्रति गहरी तथा मार्मिक ढंग से अभिव्यक्ति करने के साथ-साथ सकारात्मक दृष्टिकोण भी प्रस्तुत करती है।

ये कहानियां पाठक के मन में एक अजीब सा कुतूहल जगाए रखती हैं। इसीलिए ये कहानियां भारतीय तथा विदेशी भाषाओं में अनूदित और रूपांतरित होती रही हैं।

नोबेल पुरस्कार से पुरस्कृत रवींद्रनाथ टैगोर की इन कहानियों में उनकी सृजनात्मक एवं चिंतनात्मक प्रतिभा ने नवजागरण की चेतना को विकसित तथा पुष्ट किया है।

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book