नाभिनाल - रवीन्द्र भारती Nabhinal - Hindi book by - Ravindra Bharti
लोगों की राय

कविता संग्रह >> नाभिनाल

नाभिनाल

रवीन्द्र भारती

प्रकाशक : राधाकृष्ण प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :92
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 9342
आईएसबीएन :9788183617796

Like this Hindi book 7 पाठकों को प्रिय

249 पाठक हैं

Agyeya Aalochana Sanchayan - A Hindi Book by Om Nishchal

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

धीमी आंच पर धरती की मोटी सतह के भीतर हलके-हलके खदबदाता कुछ-फट पड़ने की तरफ एक-एक कदम रखता हुआ ! रवीन्द्र भारती की इन कविताओं की तुलना में अगर कोई बिम्ब गढ़ना चाहें तो वह कुछ ऐसा होगा ! जो मन इन कविताओं में न्यस्त है ! यह मुंडेर पर खड़ा चीखता हुआ मन नहीं है, यह गली के कोलाहल को परत-परत छील चूका और उसके परदे में छिपी तमाम मामूलियत को पहचान चूका मन है, और अब बदलाव को उतनी ही गहराई और सच्चाई से शुरू होते देखना चाहता है जितने गहरे उसकी बेचैनी खदबदा रही है ! बिलकुल हमारे आसपास के संदर्भो में एकदम सहज तत्वों और तथ्यों को वे तिनके की तरह उठाते हैं, एक दुर्लभ शांत तन्मयता के साथ इशारों में ही उनको स्पर्श करते हैं, और हमें मालूम भी नहीं होता कि हमारी सोई संवेदना कतई भिन्न-आलोक में जाग पड़ती है ! उनकी कविताओं में प्रतीकों का एक अनंत विस्तार है जिसकी पहुँच प्रकृति, अन्तरिक्ष और सृष्टि के आदि-अंत तक है ! ये कविताएँ हमें कभी बहुत ऊँचे से, लगभग किसी सिद्ध भिक्षु की तरह संबोधित करती हैं और कभी ठीक हमारे सामने आकर किसी संगी-साथी की तरह, ऐसा साथी जो हमसे ज्यादा अक्लमंद है लेकिन उस अक्लमंदी को भी जिसने अपनी अर्जित अनाक्रमकता की पवित्र तहों में कहीं पिरो लिया है ! इस नजरिए से वे अब भी एक ताजा कवि हैं, जो हमें हमारे अभ्यस्त पुरानेपन की जद से बाहर ले जाते हैं और चीजों को देखने की नई दृष्टि देते हैं जिससे हमारा आंतरिक स्पेस रचनात्मक हो उठता है ! कहना होगा कि हिंदी कविता के कुछ तत्व जो बहुप्रतीक्षित थे, इन कविताओं में प्रकट होते हैं !


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book