महापुरुष - हरिपाल त्यागी Mahapurush - Hindi book by - Haripal Tyagi
लोगों की राय

हास्य-व्यंग्य >> महापुरुष

महापुरुष

हरिपाल त्यागी

प्रकाशक : राजपाल एंड सन्स प्रकाशित वर्ष : 2008
पृष्ठ :124
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 9621
आईएसबीएन :9788170286645

Like this Hindi book 8 पाठकों को प्रिय

428 पाठक हैं

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

‘‘साहित्य के व्यंग्यात्मक रूप को लंबे समय तक हल्के ढंग से लिया जाता रहा है। इसके लिए अधिक जिम्मेदार वे व्यंग्य-लेखक हैं, जो इसे हल्का-फुल्का मानकर लिखते रहे हैं। भाषा की बात छोड़ भी दें, अपने आस-पास के जीवन और विभिन्न समाजों के अंतर्विरोधों में दिलचस्पी लेने और दिलों में झाँक कर देखने वाले कितने हैं। थोड़े-बहुत उलट-फेर के साथ लिखित पुस्तकों से उठाई गई भाषा और उनमें से ही निकाली गई ‘रचनात्मकता’ कुछ देर के लिए रोब भले ही झाड़ ले, लेकिन बासी कढ़ी के छौंक-बघार कोई कितने दिन चलाएगा? अच्छा यही होगा, अपनी रोटी खुद कमा कर उसके स्वाद-गंध से दूसरों को भी परिचित बनाया जाए। अपनत्व और जुडाव तो तभी संभव होगा। संतोष यही है कि कुछेक लेखकों ने अपनी रचनात्मकता से हिंदी जगत को यथासमय संतुष्ट और समृद्ध भी किया है।’’

लोगों की राय

No reviews for this book