साधना - रबीन्द्रनाथ टैगोर Saadhna - Hindi book by - Rabindranath Tagore
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> साधना

साधना

रबीन्द्रनाथ टैगोर

प्रकाशक : राजपाल एंड सन्स प्रकाशित वर्ष : 2014
पृष्ठ :112
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 9661
आईएसबीएन :9788170287681

Like this Hindi book 9 पाठकों को प्रिय

180 पाठक हैं

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

रवीन्द्रनाथ टैगोर एशिया के पहले भारतीय व्यक्ति थे, जिन्हें नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया। साहित्यधर्मी तथा चितेरा होने के अतिरिक्त वे एक महान दार्शनिक तथा चिंतक भी थे। प्रस्तुत पुस्तक उनके उन दार्शनिक वक्तव्यों का मूल्यवान संकलन है, जिनमें उनके साहित्यकार मन और कलाविद् को भी देखा जा सकता है।

गुरुदेव के ये वक्तव्य मनुष्य के विश्व से संबंध की भी व्याख्या करते हैं और उसके भीतर झांक कर उसका संबंध उसकी आत्मा, उसकी निजता से भी पहचान कर उजागर करते हैं।

इस पुस्तक में महान दार्शनिक ने व्यक्तित्व की सार्थकता जैसे महत्वपूर्ण प्रश्नों का बेहद सरल और बोधगम्य समाधान दिया है। एक कवि के दार्शनिक ने रूप को देख पाने का अनूठा रस इस पुस्तक में मिलता है।

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book