छल - अचला नागर Chhal - Hindi book by - Achala Nagar
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> छल

छल

अचला नागर

प्रकाशक : लोकभारती प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2016
पृष्ठ :224
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 9849
आईएसबीएन :9789352211227

Like this Hindi book 0

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

रेडियो नाटक, फिल्मों और धारावाहिक आदि माध्यमों की विख्यात सृजनकर्मी अचला नागर का यह पहला उपन्यास है। इस उपन्यास में उन्होंने परिवार और व्यवसाय की एक सहयोगी संरचना को आधार बनाते हुए एक ओर पीढिय़ों के संघर्ष को रेखांकित किया है, तो दूसरी तरफ विश्वास और भरोसे पर जीवित शाश्वत मूल्यों को प्रतिष्ठित किया है। कथा के केन्द्र में एक व्यवसायी परिवार है जिसने व्यवसाय का एक सहयोग-आधारित ढाँचा खड़ा किया है, जहाँ व्यवसाय के सब फैसले सहयोगियों की राय से लिए जाते हैं, लेकिन नई पीढ़ी के कुछ लोगों को यह तरीका बहुत रास नहीं आता जिसका परिणाम परस्पर छल, अविश्वास और पारिवारिक मूल्यों के विघटन में होता है। लेकिन जल्दी ही उन्हें अपनी भूल का अहसास होता है, और परिवार तथा परस्पर सौहाद्र के जिस ढाँचे पर ग्रहण लगने लगा था, वह वापस अपनी आभा पा लेता है।

उपन्यास की विशेषता इसका कथा-रस है जो इधर 73 के उपन्यासों में अक्सर देखने को नहीं मिलता। बिना किसी चमत्कारी प्रयोग के कथाकार ने सरल ढंग से अपनी कहानी कहते हुए अपने यथार्थ पात्रों को साकार और जीवित कर दिया है।

लोगों की राय

No reviews for this book