Hindi Books on "Criticism" at Pustak.org
लोगों की राय

आलोचना

हिंदी आलोचना का विकास

नन्दकिशोर नवल

मूल्य: Rs. 795

इस पुस्तक में उन्होंने हिन्दी आलोचना के इतिहास को नहीं, विकास को स्पष्ट किया है।   आगे...

हिंदी आलोचना का दूसरा पाठ

निर्मला जैन

मूल्य: Rs. 400

आज आवश्यकता हिन्दी आलोचना के इतिहास को उसके समुचित परिदृश्य में रखने की ही है।

  आगे...

हिंदी आलोचना

विश्वनाथ त्रिपाठी

मूल्य: Rs. 450

कृति की राह से गुजरना उचित है, लेकिन कृति को देखने की दृष्टि प्राप्त करके।   आगे...

एक कवि की नोट बुक

राजेश जोशी

मूल्य: Rs. 250

यह एक कवि की नोटबुक है। इसलिए उसमें व्यवस्था कम, बहक ज्यादा है।   आगे...

दिनकर अर्धनारीश्वर कवि

नन्दकिशोर नवल

मूल्य: Rs. 350

दिनकर आधुनिक हिंदी कविता के उत्तर–छायावादी वा नवस्वच्छंदतावादी दौर के सर्वश्रेष्ठ कवि थे।   आगे...

कोलाज : अशोक वाजपेयी

पुरुषोत्तम अग्रवाल

मूल्य: Rs. 600

अशोक वाजपेयी की कविताओं से गुजरते हुए यह एहसास बहुत शिद्दत से होता है कि हम ऐसे कवि से मुखातिब हैं जिसके यहाँ लौकिक और लोकोत्तर संवादरत हैं

  आगे...

छत्तीसगढ़ में मुक्तिबोध

राजेन्द्र मिश्र

मूल्य: Rs. 550

छत्तीसगढ़ मुक्तिबोध की परिपक्व सर्जनात्मकता का अन्तरंग है।   आगे...

भारतीय साहित्य स्थापनाएं और प्रस्तावनाएं

के. सच्चिदानन्दन

मूल्य: Rs. 250

भारतीय साहित्य भारत के जनगण की ही तरह विविधता और एकता के परस्पर सूत्रों से बुनी हुई एक सघन इकाई है

  आगे...

भारतीय काव्यशास्त्र के नये क्षितिज

राममूर्ति त्रिपाठी

मूल्य: Rs. 500

परंपरा कोई विच्छिन्न क्रम नहीं है। उसका स्वाभाविक विकास निरंतर होता रहता है।   आगे...

भारतेंदु हरिश्चंद्र और हिंदी नवजागरण की समस्याएं

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 595

वास्तव में भारतेन्दु साहित्य सम्बन्धी सभी पक्षों की प्रामाणिक जानकारी के लिए यह अकेली पुस्तक पर्याप्त है।

  आगे...

भारतेंदु युग और हिंदी भाषा की विकास परम्परा

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 795

भारतेंदु युग हिंदी साहित्य का सबसे जीवंत युग रहा है।जिसमें उनकी राष्ट्रीय और जनवादी दृष्टि का उन्मेष है।

  आगे...

अकबर इलाहाबादी पर एक और नज़र

शम्सुर्रहमान फ़ारूक़ी

मूल्य: Rs. 200

उर्दू के विख्यात आलोचक, उपन्यासकार, कवि शम्सुर्रहमान फ़ारुक़ी के ये तीन आलेख अकबर इलाहाबादी को एक नये ढंग से देखते हैं

  आगे...

विनोद कुमार शुक्ल: खिड़की के अंदर और बाहर

योगेश तिवारी

मूल्य: Rs. 300

नमें बिलकुल नए तरीके से उपन्यास की अंतर्वस्तु और अभिव्यक्ति का आलोचनात्मक अध्ययन है।   आगे...

उपन्यासों के रचना प्रसंग

कुसुम वार्ष्णेय

मूल्य: Rs. 350

निश्चय ही यह कृति पाठकों को उपयोगी और रोमांचक लगेगी।   आगे...

उपन्यासों के सरोकार

ई विजयलक्ष्मी

मूल्य: Rs. 250

इस दौर में स्त्री, दलित और जनजातीय समाज लगातार बहस के केन्द्र में अपनी जगह बना रहे हैं...   आगे...

उपन्यास का काव्यशास्त्र

बच्चन सिंह

मूल्य: Rs. 350

मूलतः पुस्तक में सिद्धान्त बरक्स रचना का विवेचन है। विभिन्न उपन्यासों और कहानियों को यहाँ पर एक दृष्टिकोण से विवेचित किया गया है। प्रबुद्ध पाठक इससे टकरा भी सकते हैं और इसे आगे भी बढ़ा सकते हैं।   आगे...

तुलसी काव्य मीमांसा

उदयभानु सिंह

मूल्य: Rs. 500

निःसन्देह तुलसीदास के अध्येताओं और जिज्ञासु पाठकों के लिए यह ग्रन्थ उपादेय होगा।   आगे...

तुलसी: आधुनिक वातायन से

रमेश कुंतल मेघ

मूल्य: Rs. 700

तुलसी के हरेक गम्भीर अध्येता- अनुरागी और सभी पुस्तकालयों के लिए सर्वथा अनिवार्य।   आगे...

तुलसी

सं. उदयभानु सिंह

मूल्य: Rs. 500

साहित्य मनीषी पं. हजारी प्रसाद द्विवेदी का मत है कि ''तुलसीदास के काव्य में उनका निरीह भक्त-रूप बहुत स्पष्ट हुआ है, पर वे समाज-सुधारक, लोकनायक, कवि, पंडित और भविष्य-दृष्टा भी थे।   आगे...

सूरीनाम का सृजनात्मक हिन्दी साहित्य

विमलेश कांति वर्मा

मूल्य: Rs. 600

भारत से हजारों मील दूर स्थित एक देश में लिखी ये रचनाएँ प्रवासी भारतीयों की संघर्ष-कथा का साहित्यिक दस्तावेज हैं जिनका ऐतिहासिक और समाजशास्त्रीय महत्त्व है।   आगे...

सूरदास

हरबंस लाल शर्मा

मूल्य: Rs. 550

सूर-साहित्य के जिज्ञासुओं, पाठकों और हिन्दी साहित्य के सभी छात्रों के लिए यह पुस्तक एक महत्त्वपूर्ण विचार-कोश की भूमिका निभाएगी।   आगे...

समकालीन हिन्दी उपन्यास: समय से साक्षात्कार

एलाङ्वम विजयलक्ष्मी

मूल्य: Rs. 350

समकालीन हिन्दी उपन्यास - समय से साक्षात्कार   आगे...

समकालीन हिन्दी साहित्य: विविध परिदृश्य

राम स्वरूप चतुर्वेदी

मूल्य: Rs. 250

समकालीन हिन्दी साहित्य के विविध परिदृश्यों का परिचय   आगे...

सामाजिक विमर्श के आईने में 'चाक'

सं. विजय बहादुर सिंह

मूल्य: Rs. 350

उपन्यास के शुरुआती पृष्ठों पर ही सास और गर्भवती विधवा बहू के बीच यह दृश्य खड़ा कर मैत्रेयी ने पहली बार स्त्री की निगाह से देखने की पहल की है।   आगे...

पृथ्वीराज रासो : भाषा और साहित्य

नामवर सिंह

मूल्य: Rs. 595

इस ग्रंथ में अपभ्रंशोत्तर पुरानी हिंदी के विविध भाषिक रूपों के प्रयोग प्राप्त होते हैं

  आगे...

प्रेमचंद के आयाम

ए अरविंदाक्षन

मूल्य: Rs. 450

प्रेमचन्द की विपुल सम्भावनाओं को दृष्टि में रखकर ही इस ग्रंथ का शीर्षक ‘प्रेमचन्द के आयाम’ रखा गया है   आगे...

पाश्चात्य साहित्य चिंतन

निर्मला जैन

मूल्य: Rs. 450

सभी महत्वपूर्ण विचारकों और प्रवृत्तियों का प्रमाणिक विवेचन इस रचना की विशेषता है

  आगे...

पाश्चात्य काव्य चिंतन

करुणाशंकर उपाध्याय

मूल्य: Rs. 595

पाश्चात्य मनीषा ने काव्य-चिंतन के क्षेत्र में सदैव प्रयोग किए हैं और   आगे...

निराला और मुक्तिबोध: चार लम्बी कविताएं

नन्दकिशोर नवल

मूल्य: Rs. 350

नवल ने बड़ी सूक्ष्मता से चारों लंबी कविताओं के शिल्पगत वैशिष्टय को उद्‌घाटित करते हुए उनकी उस अंतर्वस्तु पर प्रकाश डाला है   आगे...

मुक्तिबोध की समीक्षाई

अशोक चक्रधर

मूल्य: Rs. 395

मुक्तिबोध की कविताई में जाने से पहले उनकी समीक्षाई जानना ज़रूरी है। ज़रूरी नहीं बहुत ज़रूरी है।   आगे...

मुक्तिबोध की कविताई

अशोक चक्रधर

मूल्य: Rs. 350

अशोक चक्रधर मुक्तिबोध की कविताओं पर कार्य करने वाले प्रारंभिक लेखकों में गिने जाते हैं   आगे...

मुक्तिबोध : कविता और जीवन विवेक

चंद्रकान्त देवतले

मूल्य: Rs. 350

पुस्तक का उद्‌देश्य मुक्तिबोध के लगभग मिथक बन चुके जीवन और व्यक्तित्व को खोलना नहीं, बल्कि समझना है

  आगे...

मिथक और स्वप्न

रमेश कुंतल मेघ

मूल्य: Rs. 300

यह लिरिकल मुक्तकों के कदम्बवाला एक ‘गीत-कामायनीयम्’ है   आगे...

मेरे समय के शब्द

केदारनाथ सिंह

मूल्य: Rs. 550

पुस्तक शब्द की समकालीन सक्रियता में निहित संवेदना और विवेक को भलीभांति प्रकाशित करती है

  आगे...

मेघदूत: एक अंतर्यात्रा

प्रभाकर श्रोत्रिय

मूल्य: Rs. 150

इस कृति में कालिदास की रचनात्मकता शिखर पर है   आगे...

मध्ययुग रास दर्शन और समकालीन सौन्दर्यबोध

रमेश कुंतल मेघ

मूल्य: Rs. 750

पुस्तक मध्यकालीन अवधारणाओं तथा आधुनिक समाज-वैज्ञानिक पूर्वानुमानों वाली भाषाओं के द्वन्द्व एवं दुविधा को भी प्रकट करती है   आगे...

लोकवादी तुलसीदास

विश्वनाथ त्रिपाठी

मूल्य: Rs. 350

तुलसी की कविता भक्ति का प्रचार करती है, इसलिए वह इतनी लोकप्रिय और प्रचलित है   आगे...

कुवेम्पु साहित्य: विविध आयाम

सं. रामप्रकाश

मूल्य: Rs. 200

कन्नड़ भाषा के प्रथम ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित ‘कन्नड़ कविरत्न’ के व्यक्तित्व एवं कृतित्व के विविध पक्षों पर विद्वत्तापूर्ण व्यापक अध्ययन   आगे...

कविता का जनपद

अशोक वाजपेयी

मूल्य: Rs. 600

हमारी कविता में जीवन, अनुभव और भाषा को समझने और विन्यस्त करने के अनेक स्तर और प्रक्रियाएँ हैं   आगे...

कविता का गल्प

अशोक वाजपेयी

मूल्य: Rs. 400

कविता और कवियों पर उनका यह नया निबंध-संग्रह ताजगी और उल्लाह भरा दस्तावेज है   आगे...

कहानी वस्तु और अंतर्वस्तु

शंभु गुप्त

मूल्य: Rs. 350

हिन्दी में कहानी-आलोचना पर्याप्त समृद्ध और बहुआयामी होते हुए भी आलोचना की मुख्यधारा में अनादृत ही रही है   आगे...

हिन्दी साहित्य का इतिहास पुनर्लेखन की आवश्यकता

पुखराज मारू

मूल्य: Rs. 450

साहित्य समाज का दर्पण है।'   आगे...

हिन्दी साहित्य का दूसरा इतिहास

बच्चन सिंह

मूल्य: Rs. 895

यह ग्रन्थ इतिहास की धारावाहिक निरंतरता के साथ ही हिंदी, के प्रमुख साहित्यकारों और साहित्यिक कृतियों का मौलिक दृष्टि से मूल्याङ्कन प्रस्तुत करता है   आगे...

हिन्दी गीतिकाव्य परम्परा और मीराँ

मंजू तिवारी

मूल्य: Rs. 300

यह पुस्तक मीरां के जीवन और विशेष रूप से उनके कृतित्व को एक नई दृष्टि से देखने की प्रेरणा देती है   आगे...

हिन्दी गद्य लेखन में व्यंग्य और विचार

सुरेश कांत

मूल्य: Rs. 600

वैचारिकता से दिशा प्राप्त कर मानवता के हित में व्यंग्य का उत्तरोत्तर उत्कर्ष सुनिश्चित करना आज व्यंग्यकारों का सबसे बड़ा कर्तव्य भी है और उनके समक्ष गंभीर चुनौती भी - यही इस शोध का निष्कर्ष है   आगे...

धूमिल की कविता में विरोध और संघर्ष

नीलम सिंह

मूल्य: Rs. 300

है। संसद एवं राजनीति के बदलते परिदृश्य में धूमिल की कविता पर आलोचना की यह किताब धूमिल के माध्यम से अपने दौर की समीक्षा है।   आगे...

भारतीय साहित्य

मूलचन्द गौतम

मूल्य: Rs. 550

पुस्तक में जातीयता के निर्माण के कारकों, घटकों एवं उपकरणों एवं भारतीय साहित्य के इतिहास की समस्याओं के साथ उसकी तलाश में किए गए प्रयासों का संकेत है   आगे...

अन्तस्तल का पूरा विप्लव: अंधेरे में

निर्मला जैन

मूल्य: Rs. 125

  आगे...

आलोचना से आगे

सुधीश पचौरी

मूल्य: Rs. 400

सुधीश पचौरी ने उत्तर-आधुनिकतावादी और उत्तर-संरचनावादी विमर्शों को हिंदी में स्थापित किया है   आगे...

आधुनिक कविता का पुनर्पाठ

करुणाशंकर उपाध्याय

मूल्य: Rs. 500

छात्रों, मनीषियों, चिन्तकों तथा सामान्य पाठकों के लिए समान रूप से उपयोगी यह पुस्तक आधुनिक काव्य पर विशिष्ट अध्ययन होने के साथ-साथ नवीन समीक्षात्मक प्रतिमानों के संधान द्वारा उसका पुनर्पाठ तैयार करने का एक गम्भीर और साहसिक प्रयास है।   आगे...

 

12345Last ›   282 पुस्तकें हैं|