Gyanvardhak/द्विभाषी पुस्तकें
लोगों की राय

बाल एवं युवा साहित्य >> द्विभाषी पुस्तकें

गाँव का मेला

राधिका मेघनाथन

मूल्य: Rs. 70

मीनू गाँव के मेले के लिए इतनी उत्साहित है ! पर वह गिर जाती है और उसका पैर टूट जाता है...   आगे...

घुँघराली जलेबी

रेखा भिमानी

मूल्य: Rs. 70

राजा को जलेबियाँ बेहद पसंद हैं। वह उनके बारे में सपने देखता है...   आगे...

समुद्र का तोहफ़ा

संध्या राव

मूल्य: Rs. 75

रानी सारा दिन समुद्र-तट पर गुज़ारती है। वह अपनी दादी के लिए एक तोहफ़ा ले जाना चाहती है...   आगे...

रात

जुनुका देशपाण्डे

मूल्य: Rs. 85

दो बच्चे जब अपने को रात में जंगल की सैर करते हुए पाते हैं तो क्या होता है...   आगे...

मुर्गा और सूरज

मेरिन इमचेन

मूल्य: Rs. 100

सब तेरा कसूर है, वह सूरज को डाँटता है...   आगे...

नोरबू के नए जूते

चौंग दोर्जी भूटिया

मूल्य: Rs. 90

नोर्बू के पापा उसे नए जूतों का जोड़ा खरीदकर देते हैं। फिर एक बंदर आता है...   आगे...

नन्हा हाथी लाय-लाय

शेखर दत्तात्री

मूल्य: Rs. 100

यह कहानी नन्हा हाथी लाय-लाय की है जो घने जंगल में रहता है, वह कौतूहली और नटखट है, पर उसे अपनी माँ के आसपास ही रहना है जब तक वह स्वावलंबी नहीं हो जाता...   आगे...

दीनाबेन और गीर के शेर

मीरा श्रीराम, प्रभा राम

मूल्य: Rs. 115

दीनाबेन मालधारी है और उसका गाँव बसा है जंगल के बीचोंबीच जहाँ शेर रहते हैं। उसके रहन-सहन का ढंग क्या है ? उसका गुज़ारा कैसे होता है...   आगे...

क्रिकेट

संध्या राव

मूल्य: Rs. 80

कौन जीतता है? कौन हारता है? किसको परवाह? इतना ही काफ़ी है कि हम खेल सकें...   आगे...

लकीर और गोला

राधिका मेनन

मूल्य: Rs. 55

लकीर और गोला   आगे...

 

1234  View All >> इस संग्रह में कुल 31 पुस्तकें हैं|