List of Hindi books based on Hindi Literature and Language at Pustak.org - पुस्तक.आर्ग में हिन्दी की भाषा और साहित्य की पुस्तकों का संकलन
लोगों की राय

भाषा एवं साहित्य

आवेदन प्रारूप

शिवनारायण चतुर्वेदी

मूल्य: Rs. 250

प्रस्तुत पुस्तक आवेदन-पत्रों के प्रायः सभी आवश्यक हिन्दी रूपों को समाहित किये हुए है, जिनकी जरूरत एक कर्मचारी को अपने जीवन में पड़ती है   आगे...

विश्व पटल पर हिन्दी

सूर्य प्रकाश दीक्षित

मूल्य: Rs. 400

समस्त संसार में हिन्दी लगभग ७२ करोड़ लोगों द्वारा समझी जाती है   आगे...

सरकारी कार्यालयों में हिन्दी का प्रयोग

गोपीनाथ श्रीवास्तव

मूल्य: Rs. 350

सरकारी कार्य में व्यवहृत विदेशी भाषाओं के वाक्यांश और उनके हिन्दी पर्याय दिये गये हैं   आगे...

राष्ट्रभाषा हिन्दी : समस्याएँ और समाधान

देवेन्द्रनाथ शर्मा

मूल्य: Rs. 275

राहुलजी के भाषा-सम्बन्धी कुछ महत्वपूर्ण लेखों और भाषणों को संकलन   आगे...

भाषा विज्ञान: हिंदी भाषा और लिपि

रामकिशोर वर्मा

मूल्य: Rs. 500

भाषा की विविध प्रयुक्तियों, भाषा-चिन्तन की परम्परा, भाषा-संरचना के तत्वों, ध्वनि, शब्द, पद, अर्थ आदि क्षेत्रों-में सम्पन्न भाषा वैज्ञानिक आधुनिकतम विचारों तथा निष्पत्तियों को एक साथ समाहित करने वाली यह पुस्तक छात्रों, अनुसंधानकर्त्ताओं तथा अन्य जिज्ञासुओं के लिए उपादेय होगी   आगे...

भाषा चिन्तन के नये आयाम

रामकिशोर वर्मा

मूल्य: Rs. 150

भाषा-चिन्तन के नए क्षेत्रों का सांगोपांग परिचय इस पुस्तक के द्वारा संभव हो सकेगा   आगे...

अनुवाद की समस्याएँ

जी गोपीनाथन

मूल्य: Rs. 495

हिन्दी तथा विश्व की अन्य महत्वपूर्ण भाषाओं के बीच अनुवाद की भाषागत समस्याओं के बारे में यह द्विभाषी (हिन्दी अंग्रेजी) पुस्तक एक अन्तर्राष्ट्रीय परिचर्चा के रूप में पत्राचार द्वारा संकलित की गयी है   आगे...

अनुवाद की प्रक्रियाः तकनीक और समस्याएँ

श्रीनारायण समीर

मूल्य: Rs. 450

अनुवाद भाषिक कला है और किसी भाषा-रचना को दूसरी भाषा में पुनर्सृजित करने का कौशल भी   आगे...

अनुवाद और उत्तर आधुनिक अवधारणाएँ

श्रीनारायण समीर

मूल्य: Rs. 250

प्रस्तुत पुस्तक में अनुवाद के इसी बदले रूप और रचाव पर भूमंडलीकरण, बाजारवाद और सूचनाक्रान्ति के परिप्रेक्ष्य में विचार किया गया है   आगे...

अनुवादः अवधारणा और विमर्श

श्रीनारायण समीर

मूल्य: Rs. 250

अनुवाद को रचना का अनश्वर उद्यम घोषित करना निस्सन्देह इस किताब का मौलिक और सर्वथा नया विमर्श माना जाएगा।   आगे...

 

 < 1 2 3 4 5 >  Last ›  View All >> इस संग्रह में कुल 271 पुस्तकें हैं|