Social discussion books on Pustak.org - पुस्तक.आर्ग पर उपलब्ध सामाजिक विमर्श की पुस्तकें
लोगों की राय

सामाजिक विमर्श

भारतीय समाज क्रांति के जनक महात्मा जोतिबा फुले

एम. बी. शाह

मूल्य: $ 9.95

निष्कियता के लिए इस अदम्य योद्धा के मन में जितनी घृणा है, उतनी संसार के किसी दूसरे व्यक्ति में नहीं होगी   आगे...

भारतीय दलित आंदोलन का इतिहास (खंड 1-4)

मोहनदास नैमिशराय

मूल्य: $ 125.95

दलित आन्दोलन में अग्रणी व्यक्तित्वों, सामाजिक कार्यकर्ताओं व संस्थाओं का वर्णन है   आगे...

भारत में मानवाधिकार

सत्य नारायण साबत

मूल्य: $ 14.95

पुस्तक का उद्देश्य भारतीय संस्कृति में इस घटक की पहचान करना और यह देखना है कि हमारे इतिहास के विभिन्न चरणों में मानवाधिकारों की स्थिति क्या थी   आगे...

बस्तर की आदिवासी एवं लोक हस्तशिल्प परम्परा

हरिहर वैष्णव

मूल्य: $ 24.95

बस्तर के आदिवासी एवं लोक हस्तशिल्प तथा इसकी परंपरा में रुचि रखने वाले कलाप्रेमियों तथा अध्येताओं के लिए यह पुस्तक उपयोगी सिद्ध होगी   आगे...

और बाबासाहेब अंबेडकर ने कहा (खंड 1-5)

एल. जी. मेश्राम 'विमलकीर्ति'

मूल्य: $ 99.95

पांच खंडो में विभाजित इस रचनावली में डॉ. अम्बेडकर की उसी सामग्री को लिया गया है जो अभी तक केवल मराठी में उपलब्ध थी   आगे...

आदिवासी शौर्य एवं विद्रोह

रमणिका गुप्ता

मूल्य: $ 14.95

इस पुस्तक में हमने अलग-अलग भाषा व राज्यों के वीर नायकों व नायिकाओं की कथाओं के अतिरिक्त पूर्वोत्तर के भिन्न राज्यों में हुए विद्रोहों, प्रतिरोधात्मक आन्दोलनों पर शोध-परक गाथाएँ व सामग्री प्रस्तुत की है।   आगे...

आदिवासी कौन

रमणिका गुप्ता

मूल्य: $ 14.95

‘आदिवासी’ पुस्तक आदिवासियों के जीवन के कई ऐसे अनछुए पहलुओं को हमारे सामने लाती है जिनसे अभी तक हम अपरिचित थे   आगे...

आदिवासी : विकास से विस्थापन

रमणिका गुप्ता

मूल्य: $ 14.95

विकास के नाम पर छले जा रहे आदिवासियों के पलायन और विस्थापन आदि समस्याओं पर केन्द्रित यह पुस्तक समाज और सरकार के सम्मुख कई सवाल खड़ा करती है।   आगे...

आदिवासीः साहित्य यात्रा

रमणिका गुप्ता

मूल्य: $ 22.95

यह पुस्तक आदिवासी लोगों के जीवन की अनेकों बारीकियों का चिन्तन व मनन तथा अधिक से अधिक उनके विषय में जानने की जिज्ञासा को बढ़ाती है।   आगे...

चौपाल

अरविन्द जैन

मूल्य: $ 8.95

  आगे...

 

 < 1 2 3 4 >  Last ›  View All >> इस संग्रह में कुल 60 पुस्तकें हैं|