Hindi stories at Pustak.org
लोगों की राय

कहानी संग्रह

प्रतिनिधि कहानियाँ: राजेंद्र यादव

राजेंद्र यादव

मूल्य: Rs. 150

राजेंद्र यादव की कहानियां स्वाधीनता-बाद के विघटित हो रहे मानव-मूल्यों, स्त्री-पुरुष संबंधों, बदलती हुई सामाजिक और नैतिक परिस्थितियों तथा पैदा हो रही एक नयी विचार दृष्टि को रेखांकित करती हैं।   आगे...

प्रतिनिधि कहानियाँ: कुर्रतुल ऐन हैदर

कुर्रतुल ऐन हैदर

मूल्य: Rs. 75

क़ुर्रतुल ऐन हैदर की कहानियाँ प्रचलित प्रगतिशील कहानियों के मुक़ाबले नई शैली, नये माहौल और नई दुनिया को सामने लाती हैं।   आगे...

प्रतिनिधि कहानियाँ: प्रेमचंद

प्रेमचंद

मूल्य: Rs. 195

सुप्रसिद्ध प्रगतिशील कथाकार भीष्म साहनी द्वारा चयनित ये कहानियां भारतीय समाज और उसके स्वाभाव के जिन विभिन्न मसलो को उठाती हैं, ‘आजादी’ के बावजूद वे आज और भी विकराल हो उठे हैं   आगे...

प्रतिनिधि कहानियाँ: फणीश्वरनाथ रेणु

फणीश्वरनाथ रेणु

मूल्य: Rs. 150

प्रेमचंद के बाद हिंदी कथा-साहित्य में रेणु उन थोड़े-से कथाकारों में अग्रगण्य हैं जिन्होंने भारतीय ग्रामीण जीवन का उसके सम्पूर्ण आंतरिक यथार्थ के साथ चित्रण किया है।   आगे...

प्रतिनिधि कहानियाँ: मृदुला गर्ग

मृदुला गर्ग

मूल्य: Rs. 150

मृदुला गर्ग की कहानियाँ पाठक के लिए इतना 'स्पेस' देती हैं कि आप लेखक को गाइड बना तिलिस्म में नहीं उतर सकते, इसे आपको अपने अनुसार ही हल करना पड़ता है।   आगे...

प्रतिनिधि कहानियाँ: मोहन राकेश

मोहन राकेश

मूल्य: Rs. 150

इस संकलन में उनकी प्रायः सभी प्रतिनिधि कहानियां संग्रहीत हैं, जिनमें आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर हुआ है।   आगे...

प्रतिनिधि कहानियाँ: मिथिलेश्वर

मिथिलेश्वर

मूल्य: Rs. 150

ये सभी कहानियाँ वर्तमान ग्रामीण जीवन के विभिन्न अन्तर्विरोधों को उद्‌घाटित करती हैं, जिससे पता चलता है कि आजादी के बाद ग्रामीण यथार्थ किस हद तक भयावह और जटिल हुआ है।   आगे...

प्रतिनिधि कहानियाँ: मन्नू भंडारी

मन्नू भंडारी

मूल्य: Rs. 150

मन्नू भंडारी की ये कहानियाँ कहानी-कला के अपने तकाजों और चुनौतियों से बेबाक भाषा में जूझती हुई सामाजिक सरोकार की भी कहानियाँ हैं और आज के अर्धसामन्ती-अर्धपूँजीवादी समाज में नारी के उभरते व्यक्तित्व, सम्बन्धों के बदलते स्वरूप और उसके संघर्षों को रेखांकित करती हैं।   आगे...

प्रतिनिधि कहानियाँ: ममता कालिया

ममता कलिया

मूल्य: Rs. 60

हिन्दी की सुपरिचित लेखिका ममता कालिया की कहानियों के इस संग्रह में शिक्षित मध्यवर्गीय नारी की आशाओं, आकांक्षाओं, संघर्षों और स्वप्नों का यथार्थपरक अंकन हुआ है।   आगे...

प्रतिनिधि कहानियाँ: खुशवंत सिंह

खुशवंत सिंह

मूल्य: Rs. 125

खुशवंत सिंह की कहानियों का संसार न तो सीमित है और न एकायामी, इसलिए ये कहानियां अपनी विषय-विविधता के लिए विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं।   आगे...

 

 < 1 2 3 4 >  Last ›  View All >> इस संग्रह में कुल 1147 पुस्तकें हैं|