Hindi stories at Pustak.org
लोगों की राय

कहानी संग्रह

प्रतिनिधि कहानियाँ: यशपाल

यशपाल

मूल्य: Rs. 150

प्रेमचंद की कथा-परंपरा को विकसित करनेवाले सुविख्यात कथाकार यशपाल के लिए साहित्य एक ऐसा शास्त्र था, जिससे उन्हें संस्कृति का पूरा युद्ध जितना था, और उन्होंने जीता।   आगे...

प्रतिनिधि कहानियाँ: उषा प्रियंवदा

उषा प्रियम्वदा

मूल्य: Rs. 195

1952 से 1989 तक के कालखंड में फैली उषा प्रियम्वदा की कहानियों का अधिकांश साठ के दशक में उनके विदेश प्रवास के बाद आया है।   आगे...

प्रतिनिधि कहानियाँ: रांगेय राघव

रांगेय राघव

मूल्य: Rs. 125

रांगेय राघव की कहानियों की विशेषता यह है कि उस पूरे समय की शायद ही कोई घटना हो जिसकी गूँजे-अनुगूंजें उनमें न सुनी जा सकें।   आगे...

प्रतिनिधि कहानियाँ: राजकमल चौधरी

राजकमल चौधरी

मूल्य: Rs. 150

प्रस्तुत संकलन की कहानियाँ रोटी, सेक्स एवं सुरक्षा के जटिल व्याकरण से जूझते आम जनजीवन की त्रासदी की कथा कहती हैं।   आगे...

प्रतिनिधि कहानियाँ: राजेंद्र यादव

राजेंद्र यादव

मूल्य: Rs. 150

राजेंद्र यादव की कहानियां स्वाधीनता-बाद के विघटित हो रहे मानव-मूल्यों, स्त्री-पुरुष संबंधों, बदलती हुई सामाजिक और नैतिक परिस्थितियों तथा पैदा हो रही एक नयी विचार दृष्टि को रेखांकित करती हैं।   आगे...

प्रतिनिधि कहानियाँ: राजेंद्र सिंह बेदी

राजेंद्र सिंह बेदी

मूल्य: Rs. 150

इस संग्रह में उनकी प्रायः सभी महत्त्वपूर्ण कहानियां शामिल हैं। इनसे जो सच्चाइयाँ उजागर हुई हैं, वे जिंदगी को मात्र जी लेने से नहीं, उसमें कुछ तलाशने से ही संभव हैं।   आगे...

प्रतिनिधि कहानियाँ: कुर्रतुल ऐन हैदर

कुर्रतुल ऐन हैदर

मूल्य: Rs. 75

क़ुर्रतुल ऐन हैदर की कहानियाँ प्रचलित प्रगतिशील कहानियों के मुक़ाबले नई शैली, नये माहौल और नई दुनिया को सामने लाती हैं।   आगे...

प्रतिनिधि कहानियाँ: प्रेमचंद

प्रेमचंद

मूल्य: Rs. 195

सुप्रसिद्ध प्रगतिशील कथाकार भीष्म साहनी द्वारा चयनित ये कहानियां भारतीय समाज और उसके स्वाभाव के जिन विभिन्न मसलो को उठाती हैं, ‘आजादी’ के बावजूद वे आज और भी विकराल हो उठे हैं   आगे...

प्रतिनिधि कहानियाँ: फणीश्वरनाथ रेणु

फणीश्वरनाथ रेणु

मूल्य: Rs. 150

प्रेमचंद के बाद हिंदी कथा-साहित्य में रेणु उन थोड़े-से कथाकारों में अग्रगण्य हैं जिन्होंने भारतीय ग्रामीण जीवन का उसके सम्पूर्ण आंतरिक यथार्थ के साथ चित्रण किया है।   आगे...

प्रतिनिधि कहानियाँ: मुक्तिबोध

मुक्तिबोध

मूल्य: Rs. 60

मुक्तिबोध की कहानियाँ अखंड उदात्त आस्था के साथ आम आदमी को उसके भीतर छिपे इस सष्टा महामानव तक ले जाती हैं।   आगे...

 

 < 1 2 3 4 >  Last ›  View All >> इस संग्रह में कुल 1107 पुस्तकें हैं|