आम/aam
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

आमंत्रण  : पुं० [सं० आ√मंत्र (गुप्त भाषण)+ल्युट-अन] [भू०कृ०आमंत्रित] १. पुकारना। बुलाना। २. किसी को निमंत्रण या बुलावा भेजकर अपने यहाँ बुलाना। ३. अपने यहाँ बुलाने के लिए दिया जाने वाला निमंत्रण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमंत्रयिता (तृ)  : पुं० [सं० आ√मंत्र्+णइच्+तृच्] वह जो किसी को अपने यहाँ आमंत्रित करे या बुलावें।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमंत्रित  : भू० कृ० [सं० आ√मंत्र्+क्त] १. जिसका आमंत्रण हुआ हो। पुकारा या बुलाया हुआ। २. (अतिथि) जिसे निमंत्रण देकर अपने यहाँ बुलाया गया हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमंद  : वि० [सं० आम√दो (खंडन करना)+ड, मुम] जिसकी ध्वनि या स्वर कुछ गंभीर हो। पुं० ऐसी ध्वनि या स्वर जो कुछ गंभीर या भारी हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आम  : पुं० [सं० आभ्र, प्रा० अम्ब, गु० आँबो, सि० अंबु, आमो, का० पं० सिंह० अंब, बँ० उ० आँव, आम, मरा० आँबा] १. एक प्रकार का बडा वृक्ष जो अपने मधुर और रसीले फलों के लिए प्रसिद्ध है। २. उक्त वृक्ष का फल। पद—अमचूर, अमहर। कहा०-आम के आम गुठली के दाम=ऐसा काम, चीज या बात जिससे होनेवाले मुख्य लाभ के साथ कोई गौण लाभ भी होता हो। आम खाने से काम या पेड़ गिनने से-इस वस्तु से अपना काम निकालो, इसके विषय में निरर्थक प्रश्न करने से क्या प्रायोजन ? वि० [सं० आ√अम्(पकना)+घञ्(कर्म०स०] १. थोड़ा पका हुआ। २. बिना पका हुआ। अपक्व। कच्चा। पुं० -आँव (रोग)। वि० [अं०] १. जो लोक में बहुत प्रचलित हो। २. जिसमें सब लोग सम्मिलित हो सकें। सार्वजनिक। जैसे—आम जलसा। ३. साधारण। सामान्य। पुं० जन-साधारण। जनता।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आम-खास  : पुं० [अ०] राजमहल के भीतर का वह भाग जहाँ राजे-महाराजे बैठकर दरबार करते थे।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आम-गंधि (धिन्)  : स्त्री० [ब० स० इत्व] कच्ची और सड़ी हुई चीजों के जलने की गंध। बिसायँध।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आम-गर्भ  : पुं० [कर्म० स०] भ्रूण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमड़ा  : पुं० [सं० आभ्रातक, प्रा० आम्माडओ, अप० अबाडय, गु० अमेडा, मरा० अंवाड़ी] १. एक पेड़ जिसके छोटे गोल फल आम की तरह खटटे होते है। २. इस पेड़ का फल जिसका अचार पड़ता और तरकारी बनती है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमण-दूमण  : वि० [सं० उन्मनाः+दुर्मनाः] १. अन्यमनस्क। २. अशील और खिन्न। उदाहरण—अंतिर आमण दूमणा किसउ ज खड़उ काज।—ढोलामारू।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमद  : स्त्री० [फा०] १. आने की क्रिया या भाव। आगमन। अवाई। आना। २. आमदनी। आय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमदनी  : स्त्री० [फा०] १. बाहर से अंदर अथवा एक स्थान से दूसरे स्थान पर आने की क्रिया या भाव। २. अपने देश में दूसरे देशों से चीज या माल का आना। ३. आने या प्राप्त होनेवाला धन। आय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमनी  : स्त्री० [देश] १. वह भूमि जिसमें एक वर्ष में एक ही फसल उत्पन्न होती हो। २. जाड़े में होनेवाली धान की फसल। (बंगाल) ३. उक्त फसल में होनेवाला चावल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमन-सामन  : अव्य० =आमने-सामने।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमनस्य  : पुं० [सं० अमनस्+ष्य़ञ्] अन्यमनस्क होने की अवस्था या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमना  : अ०=आवना या आना। पुं० [सामना के अनु० पर] इस ओर का पक्ष या भाग। सामना का विपर्याय। (केवल आमना सामना या आमने-सामने पदों में प्रयुक्त।)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमनाय  : पुं० =आम्नाय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमना-सामना  : पुं० [हिं० आमना(अनु०)+सामना] १. परस्पर एक दूसरे के सामने होने की अवस्था या भाव । २. एक दूसरे के सामनेवाला अंश या भाग। ३. भेंट। साक्षात्कार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमनी  : स्त्री० [देश] १. वह भूमि जिसमें जाड़े का धान बोया जता है। २. जाड़े में होनेवाला धान। (बंगाल)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमने-सामने  : अव्य० [हिं० सामने] १. एक दूसरे के सामने या मुकाबले में। २. इस ओर तथा उस ओर। इधर तथा उधर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमय  : पुं० [सं० आम√या(जाना)+क] रोग। व्याधि। बीमारी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमरक्तातिसार  : पुं० [सं० रक्त-अतिसार, ष० त०, आम-रक्तातिसार, कर्म० स०] एक रोग जिसमें शौच के समय आँव के साथ खून भी गिरता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमरख  : पुं० =आमर्ष।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमरखना  : अ० [सं० आमर्षण] आमर्ष या क्रोध करना। गुस्सा होना। उदाहरण—उठे भूप आमरखि सगुन नहिं पायउ।—तुलसी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमरण  : अव्य० [सं० अव्य० स०] मरते समय तक। मरम काल तक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमरष  : पुं० =आमर्ष (क्रोध)।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमरषना  : अ० =आमरखना (क्रोध करना)।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमरस  : पुं० =अमरस।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमर्दकी  : स्त्री० =आमलकी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमर्दन  : पुं० [सं० आ√मृद् (कुचलना)+ल्युट्-अन] अच्छी तरह कुचलने, पीसने, मसलने आदि की क्रिया या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमर्ष  : पुं० [सं० आ√मृष् (सहसा)+घञ्] १. कोई अनुचित या अप्रिय बात न सह सकना। असहनशीलता। विशेष—साहित्य में यह एक संचारी भाव माना गया है और इसका लक्षण यह बतलाया गया है कि इसमें दूसरे का गर्व न सह सकने के कारण उसे नष्ट करने की प्रवृत्ति होती है। २. क्रोध। गुस्सा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमलक  : पुं० [सं० आ√मला (धारण करना)+क्वुन्-अक] [स्त्री० अल्पा० आमलकी] १. आँवला नामक वृक्ष और उसका फल। २. भारतीय वास्तु में उक्त फल के आकार की वह बनावट जो शिखरों के ऊपरी भाग में होती हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमलकी  : स्त्री० [सं० आमलक+ङीष्] १. छोटी जाति का आँवला। २. फाल्गुन शुक्ला एकादशी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमला  : पुं० =आँवला (वृक्ष और फल)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आम-वात  : पुं० [सं० कर्म० स०] एक रोग जिसमें पेट से आँव गिरता है और शरीर सूज -वात तथा पीला पड़ जाता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमाँ  : पुं० =आँवाँ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमातिसार  : पुं० [सं० आ-अतिसार, मध्य० स०] एक रोग जिसमें रह-रहकर आँव के दस्त आते हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमात्य  : पुं० [सं० अमात्य+अण्]-अमात्य।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमादा  : वि० [फा० आमादः] जो कोई काम करने के लिए तैयार हो गया हो। उद्यत। जैसे—चलने या लड़ने के लिए आमादा होना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमानाह  : पुं० [सं० आम-आनाह, मध्य० स०] आँव होने के कारण पेट फूलने का रोग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमान्न  : पुं० [सं० आम-अन्न, कर्म० स०] कच्चा (अर्थात् बिना पका या पकाया हुआ) अन्न।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमाल  : पुं० [सं० अमल (कार्य) का बहु०] १. जीवन में अथवा किसी के किए हुए सब अच्छे और बुरे काम। २. अनुचित और निंदनीय कार्य। ३. करतूत। करनी। ४. जादू टोना और जंतर-मंतर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमालक  : पुं० [देश] पहाड़ के पास की भूमि।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमालनामा  : पुं० [अ०] १. मुसलमानी धर्म के अनुसार वह पुस्तक जिसमें लोगों के भले और बुरे कर्मों को कयामत में पेश करने के लिए नित्य दर्ज किया जाता है। २. वह लेख जिसमें किसी के (विशेषतः कर्मचारियों के) अच्छे और बुरे सभी प्रकार के कामों का उल्लेख या विवरण होता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमावास्य  : वि० [सं० अमावस्या+अण्] अमावस्या के दिन होने या उससे संबंध रखनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमाशय  : पुं० [सं० आम-आशय, ष० त०] प्राणियों के पेट के अंदर की वह थैली जिसमें भोजन पचता है। मेदा। (स्टमक)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमा-हल्दी  : स्त्री० [सं० आम्रहरिद्रा] =आँबा हलदी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमिख  : पुं० =आमिष।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमिन  : स्त्री० [हिं० आम(फल) का अल्पा० स्त्री० रूप] क प्रकार का बहुत छोटा परर बहुत मीठा आम (फल)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमिर  : पुं० =आमिल।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमिल  : वि० [अ०] १. अमल करने या प्रयोग करनेवाला। २. ठीक सतह से काम प्रयोग या व्यवहार करनेवाला। पुं० १. ईश्वर तक पहुँचा हुआ फकीर। २. अमल या शासन चलाने अथवा आज्ञा देनेवाला, अर्थात् प्रधान अधिकारी। हाकिम। ३. कर्मचारी। ४. कार्यकर्त्ता। ५. ओझा। सयाना। पुं० [हिं० आम] कच्चे आम को सुखाकर बनाई हुई एक प्रकार की खटाई।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमिष  : पुं० [सं० आ√मिष् (सींचना)+क] १. खाया जानेवला मांस। गोश्त। २. वह जंतु या पशु जो मांस खाने के लिए मारा जाए। शिकार। ३. पशुओं का चारा। ४. घूस। रिश्वत। ५. भोज्य पदार्थ। ६. लालच। लोभ। ७. लोभ उत्पन्न करनेवाली वस्तु। ८. जँवीरी नीबू। ९. आकृति। शकल। १. पत्र।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमिषभोजी (जिन्)  : पुं० [सं० आमिष√भुज् (खाना)+णिनि] वह जो गोश्त खाता हो। मांसाहरी। (नाँनवेजिटेरियन)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमिषाशी (शिन्)  : पुं० [सं० आमिष√अश् (खाना)+णिनि] [स्त्री० आमिषाशिनी]—आमिष-भोजी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमी  : स्त्री० [हिं० आम(फल)का अल्पा० स्त्री० रूप] छोटा अम। अँबिया। स्त्री० [सं० आम्र] जौ आदि की बुनी हुई बाल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमीन  : अव्य० [अ०] १. ईश्वर करे, ऐसा ही हो। एवमस्तु। तथावस्तु। (आशीर्वाद के रूप में या प्रार्थना के अंत में) २. हाँ, आपका कहना ठीक है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमीलन  : पुं० [सं० आ√मील् (बंद करना)+ल्युट्-अन] बंद करना। मूँदना। (मुख्यतः आँखों के संबंध से प्रयुक्त)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमुख  : पुं० [सं० प्रा० स०] १. आरंभ। २. नाटक की प्रस्तावना। ३. प्रस्तावना (पुस्तक की)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमुक्त  : भू० क० [सं० आ√मुच् (छोडऩा)+क्त] १. मुक्त किया हुआ। २. छोड़ा या त्यागा हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमुक्ति  : स्त्री० [सं० आ√मुच्+क्तिन्] १. मुक्त होने की अवस्था, क्रिया या भाव। छुटकारा। मुक्ति। २. मोक्ष। (धार्मिक क्षेत्र में आत्मा के संबंध में)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमुख  : पुं० [सं० आमुख+णइच्+अच्] १. आरंभ या शुरू होने की क्रिया या भाव। २. आंरभ या शुरू का अंश या भाग। ३. किसी पुस्तक विशेषतः नाटक की प्रस्तावना या भूमिका। (प्रिफेस)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमुष्मिक  : वि० [सं० अमुष्मिन्+ठक्-इक, अलुक्० स०] दूसरे लोक से संबंध रखनेवाला। पुं० [स्त्री० आमुष्मिकी] दूसरे लोक का निवासी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमूल  : अव्य० [सं० अव्य० स०] १. आरंभ या मूल तक। जैसे—आमूल परिवर्तन या सुधार। २. बिलकुल। सब।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमेज  : वि० [फा० आमेज] १. मिलने या मिलानेवाला। २. मिला हुआ। मिश्रित।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमेजना  : स० [फा० आमेजन] मिश्रित या सम्मिलित करना। मिलाना।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमेजिश  : स्त्री० [फा०] मिलाने की क्रिया या भाव। मिलावट।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमोचन  : पुं० [सं० आ√मुच्(छोडऩा)+ल्युट्-अन] मुक्त करने की क्रिया या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमोद  : पुं० [सं० आ√मुद् (हर्ष)+णिच्+अच्] १. मन बहलाने और प्रसन्नता प्राप्त करने के उद्देश्य से किया जानेवाला काम। २. ऐसे कर्मों से होनेवाली प्रसन्नता। (एम्यूजमेण्ट) ३. महक। सुगंधि। ४. शतावर (कंद)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमोदन  : पुं० [सं० आ√मुद्+णिच्+ल्युट्-अन] १. दूसरों को प्रसन्न या मुदित करना। २. अपना मन बहलाना। ३. सुगंधि से युक्त करना। सुवासित किया हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमोद-प्रमोद  : पुं,० [सं० द्व०स०] भोग-विलास। सुख-चैन। पुं० [सं० ] १. ऐसे काम जो केवल मन-बहलाव या चित्त प्रसन्न करने के लिए होते या किये जाते हों। जैसे—खेल तमाशे, संगीत, नृत्य, जादू के खेल आदि। (एन्टरटेन्टमेण्ट) २. हँसी-ठटठा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमोदित  : भू० कृ० [सं० आ√मुच्+णिच्+क्त] १. जिसका आमोदन (या मन-बहलाव) किया गया हो या हुआ हो। २. सुगंधि से युक्त या सुवासित किया हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमोदी (दिन्)  : पुं० [सं० आ√मुद्+णिच्+णिनि] वह जो स्वयं भी प्रसन्न रहे और दूसरों को भी प्रसन्न करता हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमोष  : पुं० [सं० आ√मुष्+घञ्] चुरा या छीन कर ले लेना। अपहरण। मूसना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आमोषी (षिन्)  : पुं० [सं० आ√मुष्+णिनि] छीनने या मूसनेवाला व्यक्ति।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आम्नात  : वि० [सं० आ√म्ना (अभ्यास)+क्त] १. किसी से कहा हुआ या सिखलाया हुआ। २. जिसका अध्ययन, अभ्यास या विचार हुआ हो। ३. जिसका उल्लेख या चर्चा हुई हो। ४. जो पवित्र स्मृति के रूप में चला आ रहा हो। जैसे—वेद आदि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आम्नाय  : पुं० [सं० आ√म्ना+घञ्] १. पवित्र प्रथा या रीति। २. वेदों आदि का अध्ययन, अभ्यास और पाठ। ३. वेद। ४. अध्ययन के उद्देश्य से किया जाने वाला अभ्यास।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आम्र  : पुं० [सं० आ√अम् (गति आदि)+रन्, दीर्घ] आम का पेड़ तथा उसका फल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आम्र-कूट  : पुं० [ब० स०] अमरकंटक पहाड़ का पुराना नाम।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आम्र-वन  : पुं० [ष० त०] आमों का वन या उपवन। अमराई।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आम्रातक  : पुं० [सं० आम्र√अत् (गति)+ण्वुल्-अक] आमड़ा (पेड़ और उसका फल)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आम्ल  : वि० [सं० अम्ल+अण्] १. अम्ल संबंधी या अम्ल रस से युक्त। (एसिडिक) पुं० १. खट्टापन। २. इमली।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आम्लिक  : वि० [सं० अम्ल+ठक्-इक] =आम्ल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
आम्लिका  : स्त्री० [सं० आम्ल+कन्-टाप्,इत्व] १. भोजन अच्छी तरह न पचने के कारण मुँह का स्वाद बिगड़ना और खट्टे डकार आना। २. इमली।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ