छाप/chhaap
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

छाप  : स्त्री० [हिं० छापना] १. छापने की क्रिया या भाव। २. वह ठप्पा या साँचा जिससे कोई चीज छापी जाय। ३. छापने से बननेवाला विशिष्टता सूचक कोई चित्र या चिन्ह। जैसे–वैष्णवों के अंगों पर गरम धातु से अंकित शंख, चक्र आदि का चिन्ह। ४. ऐसी अँगूठी जिस पर छापने के लिए कोई अंक या चिन्ह बना हो। मुद्रा। ५. अँगूठी (पश्चिम)। ६. कविता के अन्त में रहनेवाला कवि का उपनाम। ७. किसी प्रकार के विशिष्ट प्रभाव के फलस्वरूप दिखाई देनेवाला चिन्ह या बात। जैसे–इस कवि पर ब्रजभाषा की छाप स्पष्ट दिखाई पड़ती है। ८. किसी कथन, घटना, दृश्य आदि के प्रभावशाली होने या ठीक जान पड़ने के कारण मन पर पड़नेवाला उसका प्रभाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
छापना  : स० [हिं० छाप] १. ठप्पे आदि पर रंग या स्याही लगाकर उसे किसी वस्तु पर इस प्रकार दबाना कि ठप्पे पर बनी हुई आकृति उस वस्तु पर छप या बन जाय। २. यंत्रों की सहायता से अक्षर, चित्र आदि मुद्रित करना। ३. पुस्तक, लेख, समाचार-पत्र आदि प्रकाशित करना। ४. किसी तल पर काला कागज रख कर उस पर इस प्रकार चित्र बनाना या कुछ लिखना कि उस तल पर उस कागज की सहायता से चिन्ह बन जायँ। स० =छोपना। उदाहरण–सब मुख कंजनि खिलत सोक पाला परिछाप्यौ।–रत्नाकर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
छापा  : पुं० [हि० छापना] १. धातु अतवा लकड़ी का वह टुकड़ा जिस पर फूल-पत्ती आदि खुदी रहती है और जिस पर रंग या स्याही लगाकर उसकी छाप किसी तल पर लगाई जाती है। ठप्पा। २. उक्त उपकरण की छाप। ३. विष्णु के आयुधों के वे चिन्ह जो भक्त लोग तप्त मुद्रा से अपने शरीर पर अंकित कराते हैं। उदाहरण–जप माला छापे तिलक..।-बिहारी। ४. गोहर, मुद्रा और उसकी छाप। ५. मंगल अवसरों पर हथेली और पाँचों उँगलियों का वह चिन्ह जो हल्दी आदि की सहायता से दीवारों आदि पर लगाया जाता है। ६. पुस्तकें, समाचार-पत्र आदि छापने की कला या यंत्र। ७. शत्रु या शिकार पर अचानक किया जानेवाला हमला। क्रि० प्र०–डालना। मारना। ८. किसी की तलाशी लेने के लिए और कुछ विशिष्ट वस्तुएँ पकड़ने के लिए पुलिस का अचानक या अप्रत्याशित रूप से कहीं पहुँचकर सब चीजें देखना-भालना। क्रि० पर०–मारना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
छापा-खाना  : पुं० [हि० छापना+फा० खानः] वह संस्थान जहाँ यंत्रों आदि की सहायता से छपाई का काम होता हो। मुद्रणालय। (प्रिटिंग प्रेस)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
छापामार  : वि० [हि० छापा+मारना] अचानक किसी पर आक्रमण करनेवाला। छापा मारनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
छापामारी  : स्त्री० [हि० छापामार] छापा मारने की क्रिया या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ