छिद्र/chhidr
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

छिद्र  : पुं० [√छिद्+रक्] १. किसी वस्तु के बीच में का दोनों ओर से खुला हुआ छोटा भाग। छेद। जैसे–कपड़े या चलनी में का छिद्र। २. किसी घन या ठोस वस्तु में का वह गहरा स्थान जिसमें उस वस्तु का कुछ अंश निकाल लिया गया हो। जैसे–जमीन, दीवार या फल मे का छिद्र। ३. किसी कार्य वस्तु या व्यक्ति में होनेवाली कोई त्रुटि या दोष जैसे–छिद्रान्वेषण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
छिद्र-कर्ण  : वि० [ब० स०] जिसके कान छिदे या बिधे हुए हों।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
छिद्रदर्शी(र्शिन्)  : पुं० [छिद्र√दृश् (देखना)+णिनि] व्यक्ति जो दूसरों के कार्यों में त्रुटियाँ या दोष ही ढूँढता हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
छिद्र-पिप्पली  : स्त्री० [मध्य० स०] गजपिप्पली।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
छिद्र-वैदेही  : स्त्री० [मध्य ० स०] गजपिप्पली।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
छिद्रांतर  : पुं० [सं० छिद्र-अंतर, ब० स०] १. सरकंडा। २. नरकुल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
छिद्रांश  : पुं० [सं० छिद्र-अंश, ब० स०] सरकंडा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
छिद्रात्मा(त्मन्)  : पुं० [सं० छिद्र-आत्मन्, ब० स०] छिद्रान्वेषी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
छिद्रान्वेषण  : पुं० [सं० छिद्र-अन्वेषण, ष० त०] किसी कार्य, बात या व्यक्ति में से त्रुटियाँ या दोष ढूँढने का काम।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
छिद्रान्वेषी(षिन्)  : पुं० [सं० छिद्र-अनु√इष् (गति+णिनि)] वह जो छिद्रान्वेषण करता हो। दूसरों के कार्यों में से त्रुटियाँ या दोष खोजने वाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ