तंद्रिक-सन्निपात/tandrik-sannipaat
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

तंद्रिक-सन्निपात  : पुं० [कर्म० स०] वैद्यक में, एक तरह सन्निपात जिसमें ज्वर बहुत तेजी से बढ़ता है, दम फूलने लगता, दस्त आने लगते हैं, प्यास अधिक लगने लगती है तथा जीभ काली पड़ जाती हैं। इसकी अवधि साधारणतः २५ दिनों की कही गई है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ