तरण/taran
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

तरण  : पुं० [सं०√तृ (पार करना)+ल्युट्-अन] १. नदी आदि पार करना। पार जाना। २. जलाशय आदि पार करने का साधन। जैसे–नाव, बेड़ा आदि। ३. छुटकारा। निस्तार। ४. उबारने की क्रिया या भाव। उद्धार। ५. स्वर्ग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तरणि  : पुं० [सं०√तृ+अग्नि] १. सूर्य। २. सूर्य की किरण। ३. आक। मदार। ४. ताँबा। स्त्री० =तरणी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तरणि-कुमार  : पुं० [ष० त०] तरणिसुत। (दे०)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तरणिजा  : स्त्री० [सं० तरणि√जन्+ड-टाप्] १. सूर्य की कन्या। यमुना। २. एक प्रकार का वर्णवृत्त जिसके प्रत्येक चरम में क्रमशः एक नगण और एक गुरु होता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तरणि-तनय  : पुं० [ष० त०] तरणिसुत। (दे०)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तरणि-तनूजा  : स्त्री० [ष० त०] सूर्य की पुत्री। यमुना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तरणिसुत  : पुं० [ष० त०] १. सूर्य का पुत्र। २. यमराज। ३. शनि। ४. कर्ण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तरणि-सुता  : स्त्री० [ष० त०] सूर्य की पुत्री। यमुना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तरणी  : स्त्री० [सं० तरण+ङीष्] १. नाव। नौका। २. घीकुँआर। ३. स्थल-कमलिनी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ