तर्ज/tarj
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

तर्ज  : पुं० [अ०] १. बनावट या रचना प्रणाली के विचार से किसी वस्तु का आकार-प्रकार या स्वरूप। किस्म। प्रकार। २. किसी वस्तु को आकार-प्रकार या स्वरूप देने का विशिष्ट ढंग, प्रकार या प्रणाली। तरह।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तर्जन  : पुं० [सं०√तर्ज् (भर्त्सना करना)+ल्युट्-अन] १. कोई काम करने से किसी को रोकने के लिए क्रोधपूर्वक कुछ कहना या संकेत करना। २. डराना-धमकाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तर्जना  : अ० [हिं० तर्जन] तर्जन करना।(यह शब्द केवल पद्य में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तर्जनी  : स्त्री० [सं० तर्जन+ङीष्] अँगूठे के पास की उँगली। विशेष–इस उँगली को होंठो पर रखकर अथवा खड़ी करके किसी को तर्जित किया जाता है इसी लिए इसका नाम यह पड़ा है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तर्जनी-मुद्रा  : स्त्री० [मध्य० स०] तंत्र की एक मुद्रा जिसमें बाएँ हाथ की मुट्ठी बाँधकर तर्जनी और मध्यमा को फैलाते हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तर्जिक  : पुं० [सं०√तज्+घञ्-इक] एक प्राचीन देश।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तर्जित  : भू० कृ० [सं०√तर्ज+क्त] जिसका तर्जन किया गया हो। जिसे डाँटा-डपटा या डराया-धमकाया गया हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तर्जुमा  : पुं० [अ०] अनुवाद। उलथा। भाषाँतर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ