तर्पण/tarpan
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

तर्पण  : पुं० [सं०√तृप् (संतुष्ट करना)+ल्युट-अन] [वि० तर्पणीय, तर्पित, तर्पी] १. तृप्त करने की क्रिया। २. हिदुओं का वह कर्मकांडी कृत्य जिसमें वे देवताओं, ऋषियों, पितरो आदि को तृप्त करने के लिए अंजुली या अरघे में जल भर कर देते हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तर्पणी  : वि० [सं० तर्पण+ङीष्] तृप्ति देनेवाली। स्त्री० १. गंगा नदी। २. खिरनी का पेड़ और फल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तर्पणीय  : वि० [सं०√तृप्+अनीयर] १. जिसका तर्पण करना आवश्यक या उचित हो। २. जिसका तर्पण किया जा सकता हो। ३. जिसे तृप्त करना आवश्यक हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तर्पणेच्छु  : वि० [सं० तर्पण-इच्छु, ष० त०] १. जिसे तर्पण करने की इच्छा हो। २. जो अपना तर्पण कराना चाहता हो। पुं० भीष्म।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तर्पणी  : स्त्री० [सं०√तृप्+णिच्+णिनि-ङीष्] पद्यचारिणी। लता। स्थल कमलिनी। स्थलपद्म।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ