तीक्ष्णाग्नि/teekshnaagni
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

तीक्ष्णाग्नि  : स्त्री० [तीक्ष्ण-अग्नि, कर्म० स०] १. प्रबल जठराग्नि। २. अजीर्ण या अपच नाम का रोग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ