तुरंग/turang
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

तुरग  : वि० [सं० तुर√गम् (जाना)+ड] तेज चलनेवाला। पुं० १. घोड़ा। २. चित्त। मन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तुरग-गंधा  : स्त्री० [ब० स० टाप्] अश्वगंधा। असगंध।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तुरग-दानव  : पुं० [मध्य०.स०] एक दैत्य जो कंस के आदेशानुसार घोड़े का रूप धारण करके कृष्ण को मारने गया था।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तुरग-ब्रह्मचर्य  : पुं० [ष० त०] वह ब्रह्मचर्य जो केवल स्त्री की अप्राप्ति के कारण चलता हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तुरगारोह  : पुं० [सं० तुरग+आ√रूह् (चढ़ना)+अच्] अश्वारोही।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तुरगास्तरण  : पुं० [सं० तुरग-आस्तरण, मध्य० स] घोड़े की पीठ पर बिछाया जानेवाला कपड़ा। पलान।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तुरगी  : स्त्री० [सं० तुरग+ङीष्] १. घोड़ी। २. [तुरग+अच्-ङीष्] अश्वगंधा या असगंध नाम की ओषधि। पुं० [सं० तुरग+इनि] घुड़सवार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तुरगुला  : पुं० [देश०] १. कान में पहनने का झुमका। २. लटकन लोलक।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तुरगोपचारक  : पुं० [सं० तुरग-उपचारक, ष० त०] साईस।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ