तृतीय/trteey
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

तृतीय  : वि० [सं० त्रि+तीय (सम्प्रसारण)] जो क्रम संख्या, महत्व आदि के विचार से दूसरे के बाद का हो। तीसरा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तृतीयक  : पुं० [सं० तृतीय+कन्] वह ज्वर जो हर तीसरे दिन आता हो। तिजारी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तृतीय-प्रकृति  : स्त्री० [कर्म० स०] पुंलिग और स्त्री लिंग से भिन्न और तीसरा अर्थात् नपुंसक। हिजड़ा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तृतीय-सवन  : पुं० [कर्म० स०] अग्निष्टोम आदि यज्ञों का तीसरा सवन जिसे सांय सवन भी कहते हैं। दे० ‘सवन’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तृतीयांश  : पुं० [तृतीय-अंश, कर्म० स०] तीसरा उपंश या भाग। तिहाई।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तृतीया  : स्त्री० [सं० तृतीय+टाप्] १. चांद्रमास के प्रत्येक पक्ष का तीसरा दिन। तीज। २. व्याकरण में करण कारक या उसकी विभक्ति की संज्ञा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तृतीया-प्रकृति  : वि० [सं०] नपुंसक। हिजड़ा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तृतीयाश्रम  : पुं० [तृतीय-आश्रम, कर्म० स०] चार आश्रमों में से तीसरा आश्रम। वानप्रस्थ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तृतीयी(यिन्)  : वि० [सं० तृतीय+इनि] तीन बराबर भागों में से एक का हकदार।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ