तृतीय-प्रकृति/trteey-prakrti
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

तृतीय-प्रकृति  : स्त्री० [कर्म० स०] पुंलिग और स्त्री लिंग से भिन्न और तीसरा अर्थात् नपुंसक। हिजड़ा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ