तैल/tail
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

तैलंग  : पुं० [सं० त्रिकलिंग] आधुनिक आंध्र प्रदेश का पुराना नाम तैलंग।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलंगा  : पुं०=तिलंगा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलंगी  : वि० [हिं० तैलंग+ई (प्रत्यय)] तैलंग देश का। पुं० तैलंग देश का निवासी। स्त्री० तैलंग देश की भाषा तेलगू।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैल  : वि० [सं० तिल+अञ्] तिल-संबंधी। तिल या तिलों का। पुं० १. तिल के दानों या बीजों को पेरकर निकाला हुआ तेल। २. दे० ‘तेल’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैल-कंद  : पुं० [मध्य० स०] तेलिया-कंद।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलकार  : पुं० [सं० तैल√कृ (करना)+अण्] तेल पेरने और बेचनेवाला व्यक्ति। तेली।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैल-किट्ट  : पुं० [ष० त०] खली।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैल-कीट  : पुं० [मध्य० स०] तेहिन नाम का कीड़ा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैल-चित्र  : पुं० [मध्य० स०] बहुत मोटे कपड़े पर तैल रंगों की सहायता से अंकित किया हुआ चित्र। (आयल पेंटिग)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलत्व  : पुं० [सं० तैल+त्व] तेल का भाव या गुण।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैल-द्रोणी  : स्त्री० [मध्य० स०] तेल रखने का एक तरह का बहुत बड़ा पात्र जिसमें कुछ विशिष्ट रोगियों को प्राचीन काल में लेटाया जाता था।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैल-धान्य  : पुं० [मध्य० स०] १. धान्य का एक वर्ग जिसके अंतर्गत तीनों प्रकार की सरसों, दोनों प्रकार की राई, खस और कुसुम के बीज हैं। २. तेलहन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलपक  : पुं० [सं० तैल√पा (पीना)+क+कन्] झींगुर नामक कीड़ा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैल-पर्णक  : पुं० [ब० स० कप्] गठिवन।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलपर्णिक  : पुं० [सं० तिलपर्ण+ठन्-इक] सलई का गोंद।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलपर्णी  : स्त्री० [सं० तिलपर्ण+अण्-ङीष्] १.चन्दन। २. लोबान। ३. तुरुष्क। शिलारस।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलपायी(यिन्)  : पुं० [सं० तैल√पा (पीना)+णिनि] झींगुर। चपड़ा। (कीड़ा) वि० तेल पीनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैल-पिष्टक  : पुं० [ष० त०] खली।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलपिपीलिका  : स्त्री० [मध्य० स०] एक तरह की चींटी
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैल-फल  : पुं० [ब० स०] १. इंगुदी। २. बहेंड़ा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैल-भाविनी  : स्त्री० [सं० तैल√भू (होना)+णिच्+णिनि-ङीप्] चमेली का पेड़।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलमाली  : स्त्री० [ब० स० ङीष्] तेल की बत्ती।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैल-यंत्र  : पुं० [मध्य० स०] कोल्हू।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैल-रंग  : पु० [सं०] चित्र कला में, जल से भिन्न वे रंग जो कई तरह के तेलों या साफ किए हुए प्रट्रोल में मिलाकर तैयार किये जाते है। ऐसे रंग जल-रंग की अपेक्षा अच्छे समझे जाते और अधिक स्थायी होते हैं। (आयल कलर)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैल-वल्ली  : स्त्री० [मध्य० स०] शतावरी। शतमूली।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैल-साधन  : पुं० [सं० तैल√साध् (सिद्ध करना)+णिच्+ल्यु–अन] शीतलचीनी। कवाबचीनी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलस्फटिक  : पुं० [मध्य० स०] १. अंबर नामक गंध-द्र्व्य। २. कहरुबा। तृण-मणि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलस्यंदा  : स्त्री० [सं० तैल√स्यन्द (चूना)+अच्-टाप्] १. गोकर्णी नाम की लता। मुरहटी। २. काकोली।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलाक्त  : स्त्री० [सं० तैल-अक्त, तृ० त०] जिस, में तेल लगा हो। तेल से सना हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलाख्य  : पुं० [सं० तैल-आख्या, ब० स०] शिली रस या तुरुष्क नाम का गंध द्रव्य।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलागुरु  : पुं० [सं० तैल-अगुरु, मध्य० स०] अगर की लकड़ी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलाटी  : स्त्री० [सं० तैल√अट् (जाना)+अच्-ङीष्] बर्रे। भिड़।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलाभ्यंग  : पुं० [सं० तैल-अभ्यंग, ष० त०] शरीर में तेल लगाने की क्रिया या भाव।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलिक  : वि० [सं० तैल+ठक्–इक] तेल-संबधी। पुं० [तैल+ठक-इक] तेली।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलिक-यंत्र  : पुं० [कर्म० स०] तिल आदि पेरने का यंत्र। कोल्ह।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलिनी  : स्त्री० [सं० तैल+इनि–ङीष्] बत्ती।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलि-शाला  : स्त्री० [सं० ष० त०] वह घर या स्थान जहाँ कोल्हू चलता हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैली(लिन्)  : पुं० [सं० तैल+इनि] तेली।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैलीन  : पुं० [सं० तिल+खञ्-ईन] तिल का खेत।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
तैल्वक  : वि० [सं० तिल्व+वुञ्–अक] लोध की लकड़ी से बना हुआ। पुं० लोध।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ