बंदन/bandan
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

बदन  : पुं० [फा०] तन। देह। शरीर। मुहावरा—बदन टूटना-शरीर की हड्डियों विशेषतः जोड़ों में पीड़ा होना। अंग-अंग में पीड़ा होना। बदन तोड़ना-पीड़ा के कारण अंगों तो तानना और खींचना। तन-बदन की सुध न रहना-(क) अचेत रहना। बेहोश रहना। (ख) इतना ध्यानस्थ रहना कि आस-पास की बातों का कुछ भी पता न चले। पुं० [सं० बदन] मुख। चेहरा। जैसे—गज-बदन। स्त्री० [हिं० बदना] कोई बात बदने की क्रिया या भाव। बदान। उदाहरण—बदन बदी थी रंग-महल की टूटी मँडैया में ल्याइ उतारयो (गीत)।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बदन-तौल  : स्त्री० [फा० बदन+हिं० तौल] मालखंभ की एक कसरत जिसमें हत्थी करते समय मालखंभ को एक हाथ से लपेटकर उसीं के सहारे सारा बदन ठहराते या तौलते हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बदन-निकाल  : पुं० [फा० बदन+हिं० निकालना] मालखंभ की एक कसर जिसमे मालखंभ के पास खड़े होकर दोनों हाथों की कैंची बाँधते हैं।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बदना  : स० [सं०√बद्=कहना] १. कथन या वर्णन करना। कहना। २. बात करना। बोलना ३. दृढ़ता या निश्चयपूर्वक कोई बात कहना। पद—बदकर या कह-बदकर-(क) बहुत ही दृढ़ता या निश्चयपूर्वक कहकर। जैसे—वह कह-बदकर कुश्ती जीतता है। (ख) दृढ़ता पूर्वक आगे बढ़कर। ४. प्रणाम के रूप में मानना। ठीक समझना। सकारना। उदाहरण—औरहू न्हायो सु मैं न बदी, जब नेह-नदी में न दी पग—आँगुरी।—नागरीदास। ५. आपस में नियत, निश्चित या पक्का करना। ठहराना। जैसे—दोनों पहलवानों की कुश्ती बदी गयी है। उदाहरण—(क) बदन बदी थी रंग-महल की टूटी मँडैया में ल्याइ उतारयो। (ख) अवधि बदि सैयाँ अजहूँ न आवे।—गीत। ६. किसी प्रकार की प्रतिद्वन्द्विता या होड़ के संबंध में बाजी या शर्त लगाना। जैसे—तुम तो बात-बात में शर्त बदने लगते हो। ७. बड़ा या महत्व का मानना उदाहरण—हिरदय में से जाइयौ, मरद बदौंगो तोहि। ८. किसी को किसी गिनती या लेखे में समझना। ध्यान में लाना। मान्य समझना। जैसे—यह तो तुम्हे कुछ भी नहीं बदता। उदाहरण—(क) सकति सनेहु कर सुनति करीऐ मै न बदउँगा भाई।—कबीर। (ख) बदतु हम कौं नेकु नाँही मरहिं जौ पछिताहिं।—सूर। १॰. नियत या मुकर्रर करना। जैसे—किसी को अपना गवाह बदना। अ० पहले से नियत निश्चित या स्थिर होना। जैसे—जो भाग्य में बदा होगा। वही होगा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बदनाम  : वि० [फा०] [भाव० बदनामी] जिसका बुरा नाम फैला हो, अर्थात् कुख्यात।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बदनामी  : स्त्री० [फा०] वह गर्हित या निन्दनीय लोक-चर्चा जो कोई अनुचित या बुरा काम करने पर समाज में विपरीत धारणा फैलने के कारण होती है। अपकीर्ति। कुख्याति। लोक-निंदा। (स्कैडल)। क्रि० प्र०—फैलना।-फैलाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बदनी  : वि० [फा०] १. शारीरिक। २. शरीर से उत्पन्न। पुं० [हिं० बदना] एक तरह का शर्तनामा जिसके अनुसार किसान अपनी फसल बाजार भाव से कुछ सस्ते मूल्य पर महाजन को उससे लिए हुए ऋण के बदले में देता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बदनीयती  : वि० [फा०+अं०] १. नीयत बुरी होने की अवस्था या भाव। २. लालच। ३. बेईमानी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बदनुमा  : वि० [फा० बद=बुरा+नुमा=दिखनेवाला] [भाव० बदनुमाई] जो देखने में कुरूप, भद्दा या भोड़ा हो।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ