बरु/baru
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

बरु  : अव्य० [सं० वर-श्रेष्ठ, भला] १. भले ही। ऐसा हो जाय तो हो जाय। चाहे। २. वरन्। बल्कि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बरुआ  : पुं० [सं० बटुक, प्रा० बडुअ] १. जिसका यज्ञोपवीत तो हो गया हो पर जो अभी तक गृहस्थ न हुआ हो। ब्रह्मचारी। पटु। २. उपनयन या यज्ञोपवीत के समय गाये जानेवाले गीत। ३. उपनयन या यज्ञोपवीत नामक संस्कार। ४. ब्राह्मण का बालक। ५. पढ़ा-लिखा और पुरोहिताई करनेवाला ब्राह्मण। पुं० [हिं० बरना] मूँज के छिलके की बनी हुई बद्धी जिससे डलिया आदि बनायी जाती है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बरुक  : अव्य०=बरू। (यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बरुना  : पुं०=बरना (वृक्ष)। स्त्री०=वरुणा (नदी)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बरुनी  : स्त्री० [देश०] १. वट-वृक्ष की जटा। (पूरब)। स्त्री०=बरौनी। (यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बरुला  : पुं०=बल्ला (लम्बा काठ)। (यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बरुवा  : पुं०=बरूआ। (यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ