बेख/bekh
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

बेख  : स्त्री० [फा०] जड़। मूल। पुं० १.=बेष। २.=स्वाँग।(यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बेखटक  : वि० [हिं० बे+हि० खटका] बिना किसी प्रकार के खटके के। बिना किसी प्रकार की रुकावट या असमंजस के। निस्संकोच। अव्य०=बेखटके।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बेखटके  : अव्य० [हिं० बेखटत] बिना आशंका या खटके के। फलतः निर्भय होकर।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बेखबर  : वि० [फा० बे+खबर] [भाव० बेखबरी] १. जिसको किसी बात की खबर न हो। अनजान। नावाफिक। २. जिसे कुछ भी खबर न हो। बेसुध। बेहोश। जैस—सब लोग बेखबर सोये थे।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बेखबरी  : स्त्री० [फा० बें०+अ० खबरी] १. बेखबर होगे की अवस्था या भाव। अज्ञानता। २. बेहोशी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बेखुद  : वि० [फा० बेखुद] [भाव० बेखुदी] जो आपे में न हो। अपनी सुध-बुध भूला हुआ।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बेखुदी  : स्त्री० [फा०] बेखुद होने की अवस्था या भाव। आपे में न होना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बेखुर  : पुं० [देश०] एक प्रकार का पक्षी जिसका शिकार किया जाता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
बेखौफ  : वि० [फा० बे+अ० खौफ़] जिसे खौफ या भय न हो। निर्भय।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ