ब्रह्म-समाज/brahm-samaaj
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

ब्रह्म-समाज  : पुं० [सं० ष० त०] एक आधुनिक संप्रदाय जिसके प्रवर्तक बंगाल के राजा राममोहन राय थे। ब्राह्मण-समाज।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ