ब्राह्य-तपशचर्या/braahy-tapashacharya
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

ब्राह्य-तपशचर्या  : स्त्री० [सं० कर्म० स०] जैनियों के अनुसार तपस्या का एक भेद जिसमें अनशन, औनोदर्य, वृत्तिसंक्षेप, रसत्याग, कायक्लेश और लीनता ये छः बातें होती है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ