लहक/lahak
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

लहक  : स्त्री० [हिं० लहकना] १. लहकने की क्रिया या भाव। २. आग की लपट। ३. चमक। ४. छबि। शोभा।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
लहकना  : अ० [सं० लता=हिलना-डोलना का अनु०] १. हवा में इधर-उधर हिलना। झोंके खाना। लहराना। २. हवा का झोंका आना। हवा कुछ जोर से चलना। उदाहरण—तीर ऐसे त्रिविध समीर लागे लहकन।—देव। ३. आग का प्रज्वलित होना। दहकना। संयो० क्रि०—उठना। ४. दे० ‘ललकना’।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
लहका  : पुं० =लचका (पतला गोटा)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
लहकाना  : स० [हिं० लहकना] १. हवा में इधर-उधर हिलना-डुलना। झोका खाना। २. उत्तेजित करना। उकसाना। भड़काना। ३. प्रज्वलित करना। दहकाना। ४. लालसा से युक्त या उत्कंठित करना। संयो० क्रि०—देना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
लहकारना  : स०=लहकाना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
लहकौर  : स्त्री० [हिं० लहना+कौर (ग्रास)] १. विवाह की एक रस्म जिसमें वर कन्या के मुख में और कन्या-वर के मुख में ग्रास डालती हैं। २. उक्त अवसर पर गाये जानेवाले गीत ३. वर-वधू को कोहबर में खेलाये जानेवाले खेल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ