लाँगल/laangal
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

लाँगल  : पुं० [सं०√लंग् (गति)+कलच्, पृषो० सिद्धि] १. खेत जोतने का हल। २. शुक्ल पक्ष की द्वितीया और उसके कुछ दिन बाद दिखाई देनेवाले चन्द्रमा के दोनों श्रृंग या नुकीले सिरे। ३. पुरुष का लिंग। शिश्न। ४. ताड़ का पेड़। ५. जहाज या नाव का लंगर। ६. एक प्रकार का पौधा और उसके फूल।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
लांगलक  : पुं० [सं० लांगल+कन्] हल की आकृति का वह चीरा जो भगंदर रोग में लगाया जाता है। (सुश्रुत)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
लांगल-चक्र  : पुं० [सं० मध्य० स०] फलित ज्योति में, हल के आकार का एक प्रकार का चक्र जिसकी सहायता से भावी फसल के संबंध में शुभाशुभ फल जाना जाता है।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
लांगल-दंड  : पुं० [सं० ष० त०] हरिस।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
लांगल-ध्वज  : पुं० [सं० ब० स०] बलराम।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
लांगलि  : पुं० [सं० लांगली] १. कलियारी नाम का जहरीला पौधा। २. मंजीठ। ३. जल पीपल। ४. पिठवन। ५. केवाँच। ६. गजपीपल। ७. चव्य। ८. महाराष्ट्री लता। ९. ऋषभक नामक अष्टवर्ग की ओषधि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
लांगलिक  : पुं० [सं० लांगल+ठन्—इक] एक प्रकार का स्थावर विष। वि० लांगल अर्थात् हल-संबंधी।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
लांगलिका  : स्त्री० =लांगली (कलियारी)।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
लांगली (लिन्)  : पुं० [सं० लांगल+इनि] १. श्री बलराम जी। २. नारियल। ३. साँप। स्त्री० [लागंल+ अच्+ङीष्] १. एक नदी का नाम। (पुराण)। २. कलियारी। ३. मंजीठ। ४. पिठवन। ५. केवाँच। कौंछ। ६. जलपीपल। ७. गजपीपल। ८. चाव। चव्य। ९. महाराष्ट्री लता। १॰. ऋषभक नामक अष्ट वर्ग की ओषधि।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ