लोच/loch
लोगों की राय

शब्द का अर्थ खोजें

शब्द का अर्थ

लोच  : स्त्री० [हिं० लचक] १. वह गुण जिसके कारण कोई चीज दबाने पर दब जाती हो और दबाव न रहने पर फिर अपना सामान्य रूप प्राप्त कर लेती हो। २. कोमलता। मृदुता। ३. कोमलता पूर्ण सौन्दर्य। पुं० [सं० लुचन] जैन साधुओं का अपने सिर के बालों को उखाड़ना। लुंचन। स्त्री०=रुचि। (यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
लोचक  : वि० [सं०√लोच् (दर्शन)+ण्वुल्—अक] १. जिसका आहार दूध हो। २. मूर्ख। बेवकूफ। पुं० १. आँख का तारा या पुतली। २. काजल। ३. मांस-पिंड। ४. माथे पर पहनने का एक गहना। ५. केला। ६. सांप की केंचुली। ७. धनुष की पतंचिका।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
लोचन  : पुं० [सं०√लोच्+ल्युट—अन] आँख। नेत्र। नयन। वि० चमकनेवाला।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
लोचना  : स० [सं० लोचन] १. प्रकाशित करना। चमकाना। २. इच्छा या कामना करना। ३. किसी में किसी बात का अनुराग या रुचि उत्पन्न करना। ४. विचार करना। सोचना। ५. देखना। अ० १. इच्छा, कामना, या रुचि होना। २. तरसना या ललचाना। ३. शोभा देना। फबना। ४. तृप्त होना। उदाहरण—लोचन उतावरे हैं, लोचै हाय कैसे हो।—घनानंद। पुं० दर्पण। शीशा। विशेषतः हज्जामों के पास रहनेवाला शीशा। मुहावरा—(कहीं) लोचना भेजना= नाई या हज्जाम के द्वारा संबंधियों आदि के यहाँ शुभ समाचार अथवा धार्मिक संस्कार का निमंत्रण भेजना।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
लोचून  : पुं०=लोह-चून।
समानार्थी शब्द-  उपलब्ध नहीं
 
लौटें            मुख पृष्ठ